बुधवार, 11 जुलाई 2012

चांद की लोरी से .....

दर्द की आंखों में सूनापन देखकर
अब जी घबराता नहीं
बस यह लगता था कि कहीं ये रो न दे
मेरी मायूसियों का चर्चा रहा
सारा दिन उसकी पलकों पे
कोई ख्‍वाब बह गया गया तो
कैसे संभाल पाएगी वह
....
कातिलों का शहर है  नींद
जाने कितने ही ख्‍वाबों का कत्‍ल होता है
हर रात यहां
गवाही देने के लिए कोई नहीं आता
तारे सो जाते हैं चांद की लोरी से
सूरज जब तक पहरे पे होता है
कोई खामोशी के लिहाफ़ से
बाहर झांकता नहीं ...

13 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति |
    बधाई स्वीकारें ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. सूरज जब तक पहरे पे होता है
    कोई खामोशी के लिहाफ़ से
    बाहर झांकता नहीं ...
    बहुत सुन्दर भाव...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह सदा जी...छोटा सन्देश,पर प्रभावी !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर.....
    गहन भाव...............

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. नींद में ख्वाबों के क़त्ल की गवाही कौन दे ...
    बेहतरीन !

    उत्तर देंहटाएं
  7. कातिलों का शहर है नींद
    जाने कितने ही ख्‍वाबों का कत्‍ल होता है ... वाह

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह ! सुंदर भावपूर्ण रचना !

    उत्तर देंहटाएं