मंगलवार, 31 मई 2011

आहत नहीं होते ...













एक
मौसम होता है
जो बदलता है हर ऋतु में
कभी पतझड़ कभी बसंत
कभी शरद कभी ग्रीष्‍म
हर मौसम के अनुकूल
हम खुद को ढालने
का प्रयास करते हैं ...
शायद हमें पता होता है
अब इसके बदलने का वक्‍त
आ गया है और हम
हो जाते हैं
उसके ही अनुकूल
लेकिन
जब मानव स्‍वभाव
बदलता है तो
सच कहूं
बड़ी पीड़ा होती है
नेकी का बदला बदी
प्रेम के बदले नफरत
खुशी के बदले गम
आहत कर जाते हैं
यदि इनके
बदलने का समय
भी नियत होता
तो शायद
हम यूं
आहत नहीं होते ...

14 टिप्‍पणियां:

  1. मानव स्वभाव मौसमी नहीं होता , वाकई मौसम का तो ज्ञान है , पर मानव ! उफ़ कब कौन सा रंग ले ले ... कोई नहीं जानता !

    उत्तर देंहटाएं
  2. समाज जैसे जैसे आगे की ओर बढ़ राह है ... समय के साथ ही बहुत कुछ बदल रहा है ... कब क्या किस तरह बदलेगा यह किसी को पता नहीं होता है ... सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  3. शायद ये बात सबे अधिक घात लगाने वाली या दुख देने वाली है!

    सुन्दर रचना!

    कुँवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  4. कमाल के भाव लिए है रचना की पंक्तियाँ .......

    उत्तर देंहटाएं
  5. यकीनन यदि समयबद्ध हो सबकुछ तो आहत तो नहीं होते

    उत्तर देंहटाएं
  6. Change is the law of the nature but it must be in the right direction.

    उत्तर देंहटाएं
  7. मानव स्वभाव कब बदल जाए कोई नहीं कह सकता है ... उसका कोई स्थिर समय तो होता नहीं है ... सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  8. मानव स्वभाव को ही यदि समय के चक्र में बांधना अगर संभव होता .....सोचो फिर जीवन कैसा होता ????

    उत्तर देंहटाएं
  9. वक्त अपनी ताकत दिखाते हुये कब सोचता है कि कोई आहत होगा। भावमय प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं