मंगलवार, 28 सितंबर 2010

मौका बन बधाई का .....


गीत को स्‍वर

आपका जब मिलता है

तो वह महकने लगता है,

तारीख गवाह हो आपके जन्‍म की

तो वह भी

यादों में सजने लगती है

मौका बन बधाई का

लबो पे मचलने लगती है

यूं ही आप देती रहें

बरसों बरस

गीतों को आवाज

बजकर एक स्‍वर में

यही कह रहें हैं साज ।

ये शब्‍द यूं ही आज आदरणीय लता जी के जन्‍मदिवस पर शुभकामना बन कागज पर सजीव हो उठे, इन्‍हें जरूरत है आपके आशीर्वाद की .........

6 टिप्‍पणियां:

  1. लता बाई के जन्मदिन पे आपकी ये खूबसूरत रचना ने मन मोह लिया

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर शुभकामना सन्देश संगीत जगत की इस महान अदाकारा के जन्म दिन पर , मेरी भी लता जी को ढेरों शुभकामनाये इस अवसर पर !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर रचना. लता जी का जन्मदिन और आपका यह बधाई देने का अन्दाज निराला है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्वर साम्राज्ञी को जन्म दिन मुबारक़!बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
    काव्य प्रयोजन (भाग-१०), मार्क्सवादी चिंतन, मनोज कुमार की प्रस्तुति, राजभाषा हिन्दी पर, पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  5. लता जी को और आपको बधाई बहुत अच्छी रचना सब की प्रियगायिका के लिये।

    उत्तर देंहटाएं