गुरुवार, 26 नवंबर 2009

सलाम इनके जज्‍बे को ...


आज की नारी में अदम्‍य साहस एवं शक्ति की कमी नहीं, इस बात का परिचय दिया कल 25 नवम्‍बर बुधवार को हमारी महामहिम महिला राष्‍ट्रपति श्रीमती प्रतिभादेवी पाटिल ने अत्‍याधुनिक लड़ाकू विमान सुखोई-30 में उड़ान भरकर इतिहास रच दिया, ऐसा करने वाली वह दुनिया की पहली महिला राष्‍ट्राध्‍यक्ष हैं, सुखोई में करीब 30 मिनट तक उड़ान भरने वाली 74 वर्षीय सबसे उम्र दराज महिला का रिकार्ड भी उनके नाम दर्ज हुआ जो कि समस्‍त महिलाओं के लिये गर्व की बात है, बेटियों के जन्‍म पर दुखी होने वाले माता-पिता को भी सीख लेनी चाहिए की यदि वह अपनी बेटी को सही शिक्षा-दीक्षा देते हैं तो वह उनका नाम रौशन करने में पीछे नहीं हटेगी फिर चाहे वह खेल का मैदान हो, या देश की सत्‍ता संभालना हो, सुखोई की इस उड़ान में उनकी यही प्रेरणा व संदेश था हम सभी के लिये कुछ करने का साहस या जज्‍बा यदि मन में हो तो मुश्किलें खुद-ब-खुद पीछे हट जाती हैं।

4 टिप्‍पणियां:

  1. Gud morning....

    aaap kaisi hain?

    bahut achchi lagi aapki yeh post.....


    Regards.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. भले ही हाई प्रोफाइल केस हो मगर निश्चित तौर पर एक अनुकरणीय प्रयास कहा जा सकता है !

    उत्तर देंहटाएं