सोमवार, 7 सितंबर 2009

‘आंठवां फेरा’ .....

समाज का हर व्‍यक्ति जागरूक हो और समाज में फैली बुराईयों को जड़ से खत्‍म करने का संकल्‍प मन में हो तो कोई भी बाधा सामने नहीं आ सकती, एक बेहद अनुकरणीय उदाहण के रूप में सामने आई यह नई पहल उजागर हुई है हरियाणा से कन्‍या भ्रूण हत्‍या रोकने के लिए आंठवां फेरा हमारे समाज की पारंपरिक रचनात्‍मकता और विचारशीलता का अच्‍छा उदाहरण है । इस समस्‍या को प्राय: जागरूकता की कमी का नतीजा माना जाता रहा है और कानूनी कार्यवाई के जरिए हल करने की कोशिश की जाती रही है। विवाह के सात फेरों के साथ आंठवें फेरे के रूप में कन्‍या भ्रूण हत्‍या नहीं करने की शपथ दिलाकर पहली बार इसे दांपत्‍य के रीति रिवाजों से जोड़ा गया है । इसे आने वाले समय में यदि व्‍यापक रूप से अपनाया जाये तो एक जघन्‍य बुराई से मुक्ति पाई जा सकती है, बेटे एवं बेटी का समान रूप से पालन पोषण किया जा सकता है ।

17 टिप्‍पणियां:

  1. हरियाणे को अक़्ल तो आई पर बड़ी देर से

    उत्तर देंहटाएं
  2. अभी समाजिक नजरिये(बेटियो के प्रति) को बदलने की जरुरत है ......वैसे एक बहुत सुन्दर पोस्ट .....बहुत बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. फ़ेरे से कही ज्यादा दृढ इच्छाशक्ति की आवश्यकता है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिलकुल सही सोच है इसकी भी आज कल तो कोई सार्थकता नहीं रह गयी बाकी सात फेरों के बचन भी कौन निभाता है आजकल बस सोच बदलने की जरूर्त है आभार्

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 3 - 11 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुएं भी तभी मिलेंगी जब आज बेटियाँ बचाओगे...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिल्कुल सही कहा अब बदलना ही होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी राह... अनुकरणीय कदम...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक को आई अक्ल अभी बहुत बाकी हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  10. स्वागतेय.वातावरण तैयार करना जरुरी है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सभी राज्यों , जिलों और गावों के सभी जाती में,
    ये "आठवां फेरा" क़ानूनी रूप से लागु करना चाहिए.... !

    उत्तर देंहटाएं
  12. भाव पूर्ण आव्हान....उजाले की किरण है....सादर !!

    उत्तर देंहटाएं